शब्दों के अक्षत
विचारों की एक नदी हम सब के अंतस में बहती है ,प्रवाह है कि थमने को तैयार नहीं ,और थमना भी नहीं चाहिये क्यूंकि जीवन चलने का नाम है अंतस का यही प्रवाह तो अभिव्यक्ति का उदगम है .थमने मत दी जिए बस थामे रहिये इस उदगम को विचारों का मंथन जाने कब कोई रत्न उगल दे .विचारों कि यह नदी जाने कितने झरनों के साथ मेरे अंतर्मन में भी प्रवाहमान है जब तक है तब तक लिखना भी रोजमर्रा में शुमार है .अभिव्यक्ति का आकाश भी अनंत है इस शीर्षक चित्र कि तरह रंग है तो उगते सूरज कि लालिमा पर शब्दों के अक्षत लगाते रहिये लगाते रहिये ---------संभावनाओं के असीम आकाश पर स्वागत है आपका

सोमवार, 28 दिसंबर 2015

रविवार, 21 दिसंबर 2014



Lo;a ls fd;k x;k oknk

      eSa pqipki ckyduh ds ,d dksus esa iM+h bl dqlhZ ij fleVh&lh cSBh gwaA tkus D;ksa eu vkt bruk mnkl gSA tkurh gwa] ,slk dqN ugÈ gqvk gS] fQj Hkh irk ugÈ dkSu&lh fpark eu dks eFk jgh gSA vius&vki esa my>h eSa vius gh var}±} esa bruh rYyhu vkSj [kksbZ&lh Fkh fd buds vkus dk vkHkkl rd ugÈ gqvkA tkus dc vka[kksa ds nk;js rksM+] [kkjs ty dh dqN cwansa xkyksa ij yq<+d iM+ÈA bUgksaus Äcjkdj ihNs ls eq>s ckagksa ds Äsjs esa ysrs gq, ç'u nkx fn;k]^^ D;k gqvk] vuq\**
      ^^dqN Hkh ugÈ] cl ;wa gh eu mnkl gSA** eSaus lgt gksrs gq, dgkA
      ^^vkt rks rqEgsa lcls T;knk [kq'k gksuk pkfg,] rqEgkjh ftEesnkfj;ka vc iw.kZ gksus tk jgh gSa vkSj rqe gks fd ;wa vka[kksa esa lkou&Hkknksa lesVs tkus dgka [kksbZ gks\**
      eSaus >V laHkyrs gq, dgk] ^^dqN Hkh rks ugÈ gqvk\**
      ^^fQj Hkh dqN rks ckr gS] ojuk rqe bl rjg mnkl cq>h&cq>h dHkh ugÈ jgrÈA** budh ikj[kh vka[kksa us rkM+ gh fy;k Fkk vkSj rkM+s Hkh dSls ugÈ] vkf[kj ,d&nwljs dh jx&jx ls okfdQ ge lgt gh ,d&nwljs dh ijs'kkuh dh fpark&js[kkvksa dks idM+ ysrs gSaA
      rhl lky dk lkFk gSA psgjk rks psgjk] eu ds gkoHkko Hkh 'kk;n le> tkrs gSaA ;s eq>s lgstrs gq, ls cksys] ^^, vuq! cksyks HkbZA dqN crkvks rks!**
      eSaus lgt gksus dh iwjh dksf'k'k ds lkFk dgk] ^^;wa gh vkt jg&jgdj ekath ;kn vk jgh gSaA**
      ^^D;ksa HkbZ\ lkl cuus dh [kcj ls gh lkl ;kn vk xbZ D;k\ ;s eka vkt D;ksa ;kn vk jgh gSaA muls rks] tc rqe vkbZ FkÈ] rqEgkjh iVjh yacs le; rd ugÈ teh FkhA** ;s etkd ds ewM esa cksy x,A
      ^^esjh iVjh\ okg] vki Hkh u---** fpM+fpM+krs gq, eSaus vka[kksa dks iksNrs gq, dgkA
      ^^eryc rks ,d gh gqvk u] iVjh rqEgkjh dgks pkgs eka dh\ vkt irk pyk eq>s rqEgkjh fLFkfr ns[kdjA lkl Hkh dHkh cgw Fkh okyh mfDr dk vFkZ\** os le>kSrs ds ygts esa cksy jgs FksA
      ^^pk; ihus dk eu gks jgk gS] vki ysaxs D;k\** eSa mBus yxhA
      ^^gka] gka--- vk/kk di py tk,xhA pk; dh dc euk gS] blh cgkus FkksM+h nsj rqe ikl cSBksxh rks lghA**
      ^^D;ksa\ D;k eSa rqEgkjs ikl ugÈ] dgÈ nwj yadk esa jgrh gwa\**
      ^^yxrk gS] vkt rks rqe yM+us ds ewM esa gksA vjs] esjk eryc gS] vc rqEgkjh cgw vk tk,xh vkSj rqEgkjk çeks'ku gks tk,xkA fQj rqe lkl cudj :rck >kM+us yxksxh! D;ksa] xyr dgk D;k eSausA** ;s ges'kk gYds&QqYds ewM esa gh ckr djrs gSaA 'kke dk v[kckj QSykdj cSB x,A
pk; dk I;kyk idM+s&idM+s eSa fQj xqelqe gks xbZA bUgksaus fQj Vksdk Fkk] ^^Iyht vuq---gka dqN rks ckr gS\ crkvks HkhA**
^^lp crkus yk;d dksbZ ckr ugÈA** eSa eqLdjk mBhA
^^dqN rks t:j gS] ;s e`xu;uh vka[ksa D;k ;wa gh lty gks jgh gSa\ ;s nqykjrs gq,&ls cksy jgs FksA
bl Lusg Hkjs laokn us eq>s vkSj :avklk dj Mkyk] ij crkus tSlh dksbZ ckr Fkh Hkh dgka\ D;k crkrh fd vfHkuo dh ilan eq>s ukilan gSA Bhd mlh rjg tSls rhl lky igys ekath us eq>s ukilan djkj fn;k FkkA rHkh Qksu dh ÄaVh cth vkSj ;s mBdj pys x,A eSaus jkgr dh lkal yhA pyks] lp mxyus ls cph] ojuk ;s rks esjs vanj ds pksj dks t:j idM+ ysrs] ij ;g pksj dc esjs eu esa ços'k dj x;k] eSa ugÈ tkurhA gka] tc ls vanj gS fnyksfnekx esa ,d [kycyh&lh eph gqbZ gSA ,d 'khr;q) py jgk gS esjk esjs gh lkFkA vkt igyh ckj eq>s Hkh yxk fd esjk vfLrRo vc [krjs esa gSA rks D;k ,slk gh ekath dks Hkh yxk gksxk] tc fç;s'k us eq>ls C;kg djus dh bPNk ekath dks crkbZ gksxh\
^cgw dk vkuk* D;k gj lkl ds eu esa ,slk gh dksbZ var}±} 'kq: dj nsrk gksxk\ eu dh bl mBk&iVd dks rks eSa fç;s'k ds lkFk Hkh rks 'ks;j ugÈ djuk pkgrhA irk ugÈ D;k lkspsaxs esjs ckjs esaA fç;s'k esjs bl :i dks tkus fdl rjg ysaxsA vkt thou esa nwljh ckj eq>s cnyko ds Äwers gq, pØ us ogÈ ykdj iVd fn;k gS tgka rhl lky igys eSa Hkh blh nsgjh ij vkdj [kM+h gqbZ FkhA esjs dne nsgjh ds ckgj gh Fks vkSj eSaus eglwl dj fy;k Fkk fd nsgjh ds vanj tes gq, iSj esjk] esjs vkxeu dk ml rjg Lokxr ugÈ dj jgs tSlh esjh vis{kk,a FkÈA ckgj eSa Fkh] vanj ekath] ftuds gkFk esa vkjrh dh Fkkyh t:j Fkh] ij c<+rh mez ds >qjkZrs&ls psgjs ij ,d rerek;k&lk ekSu Fkk vkSj vka[kksa esa eq>s rkSyrh&rirh&lh vkHkk FkhA tkus D;k Fkk mu vka[kksa ds rst esa tks eq>s bZ";kZ dh rjg yxh FkhA eSa eu gh eu dqN&dqN Mjh gqbZ&lh Fkh&tkus dSlk O;ogkj djsaxh os esjs lkFkA
lrjaxh liuksa dk fgaMksyk muds lkeus vkrs gh :d x;k Fkk] ij eu dk dksbZ dksuk vk'oLr Hkh Fkk fd fç;s'k eq>s ilan djrs gSa] vlhe I;kj djrs gSaA ekath djsa u djsa] D;k QdZ iM+rk gS] ij ckn esa eglwl gqvk fd ,d Nr ds uhps gj fj'rs dh vgfe;r gS vkSj fj'rs dks fuHkkus ls cgqr QdZ iM+rk gSA lqcg&'kke NksM+ nks rks fnu ds 'ks"k le; dks mUgÈ ds lkFk xqtkjuk gksrk FkkA C;kg ds ikap lkyksa rd ekath vkSj eSa vyxko ds nks fdukjksa ij gh FksA og rks ikap o"kZ ckn vfHkuo :ih lsrq us ge lkl&cgw dks nknh vkSj eka cukdj vyxko dks yxko esa ,slk cnyk Fkk fd ejrs oDr Hkh ekath us budh ugÈ] esjh xksnh esa flj j[kdj xaxkty xzg.k djrs gq, çk.k R;kxs FksA
ij vyxko ds os ikap o"kZ ,d ;qx dh rjg gh rks chrs FksA ekath dkuiqj dh czkã.k vkSj eSa jktLFkku dh czkã.k csVh] D;k QdZ Fkk] dsoy çkar dk\ dsoy Hkk"kk dk\ jhfr&fjoktksa vkSj [kkuiku dk\ dsoy lkaL—frd Hksn gh rks Fkk&FkÈ rks nksuksa ,d gh tkfr dÈA czkã.k dqyksa esa tUeÈ FkÈ] ij ekath dqN ;wa O;ogkj djrÈ ekuks vNwr dU;k muds Äj vk xbZ gks vkSj os vcM+k ¼Hkz"V½ xbZ gksaA vyx idkuk] vyx iwtk&ikB] mudk bl rjg dk O;ogkj eq>s vanj gh vanj rksM+ nsrk FkkA ,d ghurk dk cks/k djokrk Fkk&rc ges'kk yxrk ekath xyr gSa] ij vkt yx jgk gS os xyr ugÈ FkÈA og mudh mFky&iqFky gksrh eu%fLFkfr dk gh ifj.kke jgk gksxkA ,slk gh rks eSa Hkh lksp jgh gwa vfHkuo dh ilan dks ysdj! yM+dh vkbZvkbZVh gS] vfHkuo ds lkFk i<+h] mPp f'kf{kr gS] ij esjs vanj mldh f'k{kk] vfHkuo dh ilan ds ckotwn] dqN ,slk vyx&lk id jgk gS tks eq>s gh }a} esa Mky jgk gSA eSa vkSj ekath rks dsoy çkar ds varj ls gh caVs Fks ij lqdU;k rks tkfr vkSj /keZ ls Hkh vyx gSA dSls ge mlds lkFk fuHkk ik,axs\ vkt lqdU;k dks eSa mlh vyxko ds nwljs fdukjs ij ns[k jgh gwaA eSa 'kq) Hkkjrh; ijaijkvksa dh dk;y gwaA dk;ns] eku&e;kZnk] laLdkj lHkh dqN esjs fu/kkZfjr ekunaMksa ij pyrs gSaA cM+ksa ds pj.k&Li'kZ dks nqfu;k dk lcls vPNk vfHkoknu ekuus okyh esjh laL—fr esa lqdU;k dk ^gyks vkaVh] gk; vady* dgka lek;ksftr gks ik,xk! ,d rh[kh pqHku&lh mBh HkhrjA eu yxkrkj my>rk gh tk jgk gSA ^^lqdU;k dks cnyuk iM+sxk Lo;a dks] ,sls ugÈ pysxkA** eSa cqncqnk mBhA
^^D;k gqvk] eEeh\** vfHkuo us ihNs ls vkdj xys esa ckagsa Mkyrs gq,] esjs xky ls xky lVkdj I;kj djrs gq, iwNkA
^^dqN ugÈ js] cl ;wa ghA** eSaus mldk xky FkiFkikrs gq, dgkA
^^ukjkt gks vki\** mldh vkokt esa Hk; dh >yd FkhA
^^ugÈ rksA** lgt gksus dk esjk ç;kl O;FkZ x;kA
^^eEeh] tc ls vki lqdU;k ls feyh gSa] vki pqi gSa] mnkl gSaA ilan ugÈ vkbZ D;k\** og xaHkhj ygts esa cksy jgk FkkA
^^,slk dqN ugÈ gSA** eSa mBdj vius dejs esa vk xbZ FkhA eSa vfHkuo ds ç'uksa ls cpuk pkgrh FkhA tkurh gwa] bu fnuksa og u, thou ds [okcksa dh nqfu;k esa rSjrk jgrk gSA eSa ugÈ pkgrh fd og nq%[kh gksA mldk fny VwVsA ml ij vius detksj gksrs iqjkruiaFkh eu dh >yd Hkh u iM+s] ;gh lkspdj mB xbZ Fkh eSa ckyduh ls] ij og esjs ihNs&ihNs dejs esa pyk vk;kA
^^;w uks eEek] lqdU;k bt osjh baVsyhtsaVA**
^^vkbZ uks osjh osyA** eSaus eqLdjkrs gq, lgt gksus dh dksf'k'k dhA
^^'kh bt osjh LohVA** og ogÈ esjs iyax ij ysV x;k vkSj 'kk;n Hkfo"; ds lqugjs liuksa esa [kks x;kA mls >idh vk xbZA eSaus pknj m<+kdj mlds ckyksa esa gkFk Qsjk rks utjksa ds lkeus uUgk&lk vfHkuo vk x;kA ;knksa dk NksVk&lk ,yce fQj eu esa [kqy x;k] tc og dgkuh lqurs&lqurs ;k gkseodZ djrs&djrs ;wa gh lks tkrk FkkA mldk cpiu fjolZ gksrh fQYe dh rjg esjs lkeus [kqyrk x;kA ,d&,d ÄVuk] ,d&,d ckr esjs Le`friVy ij mHkjrh tk jgh FkhA mlds psgjs ij utjsa xb± rks yxk tSls og vkt Hkh mruk gh eklwe gSA eSaus mlds ekFks dks pwe fy;kA ^D;k bldh bPNk ds fy, eSa Lo;a dks ugÈ cny ldrÈ\*
ij eSa gh D;wa cnywa gj ckj\ igys ekath ds fy,] vc cgw ds fy,\ eSa vkSj lqdU;k] lqdU;k vkSj eSa] eSa vkSj ekath] ekath vkSj eSa--- yxkrkj ;g pØ esjs fnyksfnekx ij eaMjkus yxkA lSdM+ksa u, loky iqjkus lanHkks± ds lkFk eu esa mBus yxsA fny vkØkar gks mBkA
lqdU;k ds vkrs gh vfHkuo eq>ls nwj gks tk,xk\ eq>s vfHkuo ls nwj gksus dk Hk; yxkrkj lrkus yxkA vc rd vfHkuo ds thou esa dksbZ L=h Fkh rks og dsoy eSa&mldh ekaA nknh ds lkFk Hkh mldk I;kj caVuk eq>s vPNk ugha yxrk FkkA rc ml ijkbZ yM+dh ds lkFk----\ lqdU;k ds vkus dh dYiuk ls gh eq>s csVk vius ls nwj gksrk yxkA fdruk lq[k feyrk gS eq>s mlds fy, cukus esa] mlds fy, tkxus esa] mlds LosVj] mlds diM+s ilan djus esa] ij /khjs&/khjs ;g lc lqdU;k dk lq[k gks tk,xkA lqdU;k dh ilan esa cny tk,xkA eSa ?kj dh /kqjh ls gVdj gkf'k;s ij pyh tkÅaxhA flgju&lh gqbZ ru&eu esa] rks D;k viuh Lora=rk vkSj ,dkf/kdkj ds caVokjs dk Hk; eq>s Mjk jgk gS\ vius lokZf/kdkj] vius otwn ds ?kVus dk Mj gSA D;k ifjokj esa ,d nwljh L=h dk izos'k esjh lŸkk vkSj esjs egRo dks pqukSrh ugha ns jgk\ eu esa xqckj&lk mBk vkSj lkjs iz'u /kqa/kys&ls gksus yxsA ilhus ls rj&crj gks xbZ eSaA jkr lksprs&lksprs gh vk/kh gks xbZ] ij uhan dk ukeksfu'kku ugha FkkA
fdruk mRlkg Fkk eq>esa tc eSa nqYgu cudj bl Äj esa vkuk pkgrh FkhA fç;s'k ds lkFk dke djrs gq, vDlj eka dh ckr gksus yxrhA eka dk ftØ] eka dh dYiuk ls gh jksekafpr gks mBrh Fkh eSaA cpiu esa gh ek¡ [kksdj v/kwjh gks xbZ eerk dh Nkao dks ckck us iwjk djus dh yk[k dksf'k'k dh Fkh] ij fQj Hkh I;kj] Lusg vkSj vk’khokZn dh fjDrrk dks lnk eglwl fd;k Fkk eSausA fç;s'k ls eka ds ckjs esa lqu&lqudj ,d lqanj dYiuk us tUe fy;k Fkk esjs eu esa&tgka lkl&cgw ugÈ eka&csVh gqvk djrh FkÈ--- ij D;k\ fQj viuh cgw dks csVh cukÅaxh] ;g oknk eSaus vius&vkils gh fd;k Fkk---fQj vc D;ksa eSa ijs'kku gwa\
D;k gkFkh ds nkar dh rjg fopkj Hkh fn[kkus ds vyx gksrs gSa vkSj fuHkkus ds vyx\

शनिवार, 6 जुलाई 2013

बैंगनी फूलों वाला पेड़



बैंगनी फूलों वाला पेड़


चाणक्यपुरी वाला हमारा सरकारी बंगला, जहां दिल्ली, दिल्ली है ऐसा कम ही लगता। साफ-सुथरा वीआईपी एरिया। इतनी हरियाली दिल्ली के किसी और इलाके में शायद ही देखने को मिले। हमारे घर के सामने तो जैसे सघन अशोक वाटिका ही बनी थी। यह एक हरा-भरा सरकारी बगीचा है। बगीचे में तमाम तरह के पेड़-पौधे हैं। पर मेरी .ष्टि में बगीचे में सबसे खूबसूरत पेड़ वही है जिसके ऊपर गर्मी-भर बैंगनी रंग के फूल खिलते हैं। हर बार जब भी वह पेड़ बैंगनी फूलों से लद जाता, मैं उसका नाम जानने को उतावली होती-कई बार किताबों, पत्र-पत्रिकाओं के पन्ने पलटती, शायद इस पेड़ का वर्णन या फोटो दिख जाए, पर आज तक नहीं जान पाई इसका नाम। लंबे तनेवाले इस पेड़ के शीर्ष पर फैले छोटे-छोटे जामुनी रंग के फूल और कलियों के गुच्छे मुझे किसी ग्रामीण स्त्री की वायल की फूलोंवाली चुनरी जैसे लगते। घर के बाईं तरफवाली खिड़की खोलते ही ध्यान उधर चला जाता। काफी बड़े क्षेत्र में पेड़ की छत्रछाया फैली हुई। गुलमोहर जैसे आकार-प्रकार के इस पेड़ पर तरह-तरह के पंछी अपना बसेरा बनाए रहते हैं। फागुन के बाद तपती दोपहर में जब ज्यादातर पेड़ पतझड़ का गम मना रहे होते हैं या फिर अंगारे जैसे सुर्ख रंग के फूलों से धधकते लगते हैं ऐसे में शांत बैंगनी रंग के फूलों से ढका यह पेड़ आंखों और दिल को सकून देता है। पेड़ के नीचे ज्यादातर छांव रहती है। शायद इसीलिए वहां एक बेंच भी लगी है। अक्सर राहगीर उस बेंच पर सुस्ता लेते हैं। शाम को मोहल्ले के कुछ बुजुर्ग एकत्र होते हैं। बहुत बार मेरा भी मन करता उस ठंडक में जाकर कुछ बिखरे बैंगनी फूल  उठा लाऊं।

      एक दोपहर जब गर्मी अभी शेष थी और ठंडी-गरम मिली-जुली हवा स्पर्श कर रही थी, मैं सोनरंग की वायल में फूल टांकती अपने कमरे में बैठी थी। खिड़की खुली थी और रेडियो पर मेरा मनपसंद गजलों का कार्यक्रम बज रहा था-उस भरी दोपहर में खिड़की से मेरी नजर पेड़ की तरफ गई तो मैंने देखा, पेड़ के नीचे एक लड़का और एक लड़की बैठे हैं। वे दोनों अपने-आपमें ही मग्न थे-जाने क्यूं अच्छा लगा उन्हें दुखकर। मैं कुछ देर देखती रही। फिर अनायास ही मैं मुस्करा उठी और खिड़की बंद कर, आंखें मूंद लेट गई। लड़का और लड़की खयालों में ही रहे-प्यार की गुनगुनी दोपहर ऐसी ही होती है- एक राहत भरी छांह को तलाशती हुई। धुंधलाती स्मृतियों में ऐसी ही किसी दोपहरी में बरसों पहले एक ग्रीटिंग कार्ड स्केच के ऊपर खिली गुलजार की पंक्तियों का शब्द-शब्द याद आने लगा-

            याद है, एक दिन

            मेरे मेज पे बैठे-बैठे



            सिगरेट की डिबिया पर तुमने
            छोटे-से इस पौधे का
            एक स्केच बनाया था!
            आकर देखो,
            उस पौधे पर फूल आया है!

      जब-जब भी अपने बगीचे के आम पर बौर आते रहे ये पंक्तियां याद करती रही... हां, चुपचाप पौधे पर फूल खिलते रहे। यह विचार उठता रहा कि यह पेड़ इन पंछी जैसे लड़के-लड़की को भी एक बसेरस बसाने का सुंदर सपना दे रहा है। करवट बदल सोने की कोशिश करती, पर थकान के बावजूद नींद नहीं आनी थी न आई!सधे रिकॉर्ड की तरह दिमाग पर कुछ विस्मृत तरंगें उठने लगीं। मैं बेचैन अहसास के साथ फिर करवट बदलती हूं, पर लगा, वह लड़का और लड़की और वह बैंगनी फूलोंवाला पेड़ मेरे स्मृति-पटल से विस्मृत होने के भ्रम की धूल झाड़ रहे हैं-क्या हो गया है मुझे?उठकर बैठ जाती हूं। एक कुनमुनाहट-सी भीतर रेंगने लगती है। मैंने खिड़की खोल दी। तपी हुई हवा का एक झोंका घर में प्रवेश कर गया। मेरी नजरें फिर पेड़ के नीचे गईं, अब लड़का और लड़की जा चुके थे। वहां कोई नहीं था। उस रिक्त हुए स्थान पर कुछ बैंगनी फूल झड़े हुए थे। फूल मुस्करा रहे थे। शायद प्यार की उनकी छोटी-सी मुलाकात का अहसास वहां मौजूद था। मैं पलटी। रेडियो पर अंतिम गजल बज रही थी-
            पसीने-पसीने हुए जा रहे हो,
            तुम दोनों कहां से चले आ रहे हो...

जगजीत सिंह चित्रा सिंह के प्यार की सारी कशिश उनक स्वर में उतर आती है। उठकर मैं किचन में गई और चाय बनाकर ले आई। खाली घर में जाने क्यूं लगने लगा, मैं अकेली नहीं हूं। एक अहसास है जो मेरे साथ-साथ चल-फिर रहा है। चाय का कप पकड़े-पकड़े खयाल आया कि लंबे अरसे बाद आज फिर दोपहर में चाय की तलब?क्या मतलब है इसका?नौकरी छोड़ने और शादी होने के बाद से दोपहर में चाय तो मैंने पी ही नहीं थी।
अगला दिन-फिर वही दोपहर, वही मैं और मेरा खालीपन। आम के पेड़ पर तोते बोल रहे थे-उनकी आवाज के साथ मैं कमरे से बाहर आ गई और आम के पेड़ के नीचे चली गई। एक अलग ही अहसास फैलने लगा मेरे वजूद पर। आम की पत्तियां तोड़कर हथेली पर मसल डाली, पत्तियों की महक अच्छी लगती है मुझे। यादों की महक-सी छाने लगी मुझ पर...तुम कितना चिढ़ते थे, मेरी इस आदत पर...सारे हाथ गंदे कर लेती हो तनु, एलर्जी हो जाएगी। मैं इन पत्तियों को सूंघती थी और छींकें तुम्हें आती थीं। कितना सुखद होता था वो लंच टाइम जब हम चाय की गुमटी के पीछेवाले आम के पेड़ों के झुरमुट के नीचे जा बैठते थे। तुम मेरे लंच बॉक्स में रोज आम का अचार देखते ही मुस्कराने लगते थे। ''तनु, थोड़े आम के पत्ते घर ले जाओ, सब्जी बना लेना। तुम्हारा बस चले तो तुम आम के पत्ते भी खाने लगोगी।
      ''हां तो, तुम्हें भी खिलाऊंगी, क्या बिगाड़ा है आम के पेड़ ने तुम्हारा?बैठते तो रोज यहीं हैं ?''
      ''अच्छा, बाबा  अच्छा है, जनाब यह छत्रछाया आपकी है हम पर खट्टी-मिट्ठी।''
      ''हां, अब आई अकल।''
''अच्छा तनु, अगर ये नीम का पेड़ होता तो क्या तुन निबोली का अचार डालतीं?''
''हां डालती, 'प्रणव छाप निबोली अचार'। डालती और तुम्हें ही खिलाती, समझे! ''
''प्रणव, तुमसेअलग हो यादों की निबोली ही तो समेट रही हूं...''
अगली दोपहर फिर तोते मेरे बगीचे के अमरूद कच्चे ही गिराकर उड़ गए। मैं अमरूद उठा अंदर आने लगी अनायास ही नजर सामनेवाली बेंच पर चली गई। आज फिर वही लड़का और लड़की वहां आकर बैठे थे। मैंने घड़ी पर नजर डाली-एक बजकर तीस मिनट। ओ...लंच टाइम!मैं कमरे में आ गई। रेडियो ऑन किया, दर्द-भरा एक अहसास बहने लगा-
      हमने देखी है इन आंखों की महकती खुशबू
      हाथ से छूके इस रिश्तों का इलजाम ना दो
      सिर्फ अहसास है ये रूह से महसूस करो-
मैं चाहकर भी आज खिड़की बंद नहीं कर पाई।
आज शनिवार, सेकंड शनिवार। विनय का ऑफ होता है और मेरा फुलडे वर्किंग डे। विनय का सब काम आराम से करने का दिन। विनय सुबह गार्डन ठीक करते हैं, फिर अखबार और बार-बार चाय। एक बजे लंच। किचन समेट मैं कमरे में आई रेडियो ऑन किया और खिड़की खोली।
पेड़ के नीचे वही लड़का-लड़की आकर बैठे थे। विनय ने मुझे टोका, ''क्या तनु, भरी दोपहरी में खिड़की से गरम लपट आएगी।''
मैं अपनी धुन में थी, बोल पड़ी, ''नहीं विनय, पिछले कुछ दिनों से मैं जब भी ये खिड़की खोलती हूं, एक पॉजिटिव एनर्जी कमरे में आती है। एक ऐसा अहसास जो दोपहर की गर्मी को छांट देते है। और गाने सुनते दोपहर कट जाती है।''
''अच्छा!''विनय मुस्करा उठे। ''तुम औरतें भी ना, पॉजिटिव एनर्जी के रास्ते ढूंढ ही लेती हो, जैसे चाय के प्याले, रेडियो के बोर करते गानों में...''
''आप भी ना...बस हर बात का मजाक बना देते हैं।''
विनय उठकर मेरे पास आ गए। हाथ में चाय का प्याला देखकर बोले, ''अच्छा!तो दफ्तरवालों की तरह घरवालियां भी लंच टाइम में चाय पी लेती हैं। पॉजिटिव एनर्जी वाली।'' विनय भी खिड़की के पास मेरे साथ आ खड़े हुए थे।
''...तनु, देखो, तुम्हारे बैंगनी फूलोंवाले पेड़ के नीचे प्यार की कोंपलें फूटने लगी हैं।'' ये चहककर बोले।
''हां, आजकल यह जोड़ा रोज ही आकर यहां बैठता है।''
''तो पॉजिटिव एनर्जी यहीं से आती है!'' विनय मुस्करा उठे।
मैं खिसिया गई जैसे कोई चोरी पकड़ी गई हो।
''आप भी ना...''
विनय ने मुझे बांहों में समेटते हुए, आंखें मूंदकर कहा, ''सदियों से एक ही लड़का है, एक ही लड़की है, एक ही पेड़ है। दोनों वही मिलते हैं, बस, नाम बदल जाते हैं और फूलों के रंग भी। कहानी वही होती है। किस्से वही होते हैं। पेड़ कभी-कभी गुलमोहर का होता है या बैंगनी फूलोंवाला, क्या फर्क पड़ता है। द एंड सभी का एक-सा ही...''
विनय खिड़की बंद कर लेट गए। पास ही के तकिये पर करवट बदलते हुए मैं महसूस कर रही थी। विनय के अंदर भी यादों का कोई पन्ना खुल गया है शायद। तो क्या, बैंगनी फूलोंवाले पेड़ ने इनके अंदर भी स्मृतियों के विस्मृत होते किसी पन्ने की धूल झाड़ दी ? मेरे आम के पेड़ का राज समझते हुए इन्हें कोई गुलमोहर याद आ गया। रेडियो ऑन किया...शुरू हो रही थी गुलजार साहब की एक नई नज्म :
      मैं कायनात में, सय्यारों से भटकता था
      धुएं में, धूल में उलझी हुई किरण की तरह
      मैं इस जमीं पे भटकता रहा हूं सदियों तक
      गिरा है वक्त से कट के जो लम्हा, उसकी तरह
मैंने उठकर देखा, खिड़की से, जोड़ा चला गया था। शायद कल फिर मिलने का वादा लेकर।
                                             स्वातितिवारी

मंगलवार, 25 जून 2013



प्रसंग : उत्तराखण्ड आपदा प्रबंधन
आवश्यकता है जोखिम मूल्यांकन के आत्मविश्लेषण की
    स्वाति तिवारी
प्राकृतिक आपदाएं कह कर नहीं आती पर जब आती हैं तो अपना रौद्र रूप दिखाते हुए कहर बरपा जाती हैं। प्राकृतिक आपदा इस बात की याद भी दिलाती है कि मनुष्य ने प्रकृति पर विजय पाने के जो झण्डे-डण्डे गाड़ रखे हैं वे और उनका सच क्या है? मनुष्य का प्रकृति के साथ जो अंतरसंबंध रहा है वह कम होते होते खत्म होता जा रहा है। मनुष्य सिर्फ दोहन ही दोहन कर रहा है प्रकृति को नष्ट कर सीमेंट-कांक्रीट के जंगल उगा रहा है। प्रकृति ने अपना आक्रोश हमें दिखा दिया। पुराने समय में कहावत थी कि मुसीबतें कह कर नहीं आती। आज के वैज्ञानिक युग में जब बाकायदा मौसम विज्ञान, भूगर्भ विज्ञान जैसी सुविधाएं हैं। ऐसे में भी अगर उत्तराखण्ड जैसी आपदा आती है तो सवाल यह उठता है कि हम कब चेतेंगे? क्या पिछले दसों साल से हर साल इसी मौसम में आने वाली बाढ़ के प्रकोप से बचा नहीं जा सकता। उत्तराखण्ड में ऐसे स्थान निश्चित हैं जहां हर साल बाढ़ का प्रकोप देखा जा सकता है। इसमें उत्तर काशी, चमोली, जोशीमठ मार्ग, रूद्रप्रयाग, गंगोत्री-जमनोत्री, उत्तरकाशी-केदारनाथ मार्ग, देवप्रयाग, टिहरी। बावजूद इसके हमने देखा कि होटलें-धर्मशालाएं, रेस्टहाउस, आवासीय कालोनियों को नदियों के किनारों पर, पहाड़ों के किनारों पर बनाने की अनुमति दे दी जाती है? मौसम विभाग ने भारी बारिश की चेतावनी दे दी थी....। पर ना प्रशासन ने, ना अन्य व्यवस्थाओं ने इस पर ध्यान दिया क्यों? क्या इतनी बड़ी संख्या में यात्री पहुंचेंगे इसकी खबर प्रशासन को नहीं होती। अच्छा होता लोगों को हरिद्वार-ऋषिकेश से ऊपर जाने की अनुमति देने वाली जगह पर इस बात की सूचना को हाईलाइट किया जाता। खतरे की सूचना टी.वी. पर और रास्ते के ग्रामीण क्षेत्रों में दी जाती। विगत दिनों दो देशों की यात्रा की। पहली साउथ अफ्रीका की यात्रा की। यहां का सबसे खूबसूरत शहर केप-टाउन जहां दुनिया भर से पर्यटक टेबल माउण्टेंन देखने आते हैं। यह दुनिया के सात प्राकृतिक आश्चर्यों में से एक है। गाड़ी से एक निश्चित ऊंचाई तक पहुंचा जाता है। और वहां से केबल कार द्वारा लिफ्ट किया जाता है। जहां से चढ़ाई शुरू होती है वहां पर एवं जहां-जहां से उस पाइण्ट तक पहुंचा जाता है। वहां इस बात के साइन बोर्ड लगे हैं जो पल-पल इस बात की सूचना देते हैं कि रास्ता खुला है या बंद। माउण्टेंन ब्लेक कोहरे से ढकता और खुलता रहता है और रास्ता भी उसी के अनुसार पल-पल की सूचना देता है। टिकट खिड़की बंद कर दी जाती है। नेट पर सूचना उपलब्ध रहती है और टेक्सी चालकों मोबाइल पर सूचना देखी जा सकती है। जान-माल के हादसे को सबसे अहम् माना जाता है। दूसरा देश अमेरिका जहां हेरिकेन कैटरिना चक्रवात आया था। पर अलर्ट इस तरह जारी हुआ था कि बच्चे-बच्चे को सूचना थी। दूसरे देशों को भी सूचना थी। लोगों को अपने घरों में रहने के सख्त निर्देश थे। खाने के सामान, सिलेण्डर, टार्च, मोमबत्ती तक खरीदने के लिए निर्देश थे। लाईट बन्द कर दी जाने की सूचना थी। समुद्र में कोई नाव, कोई जहाज नहीं जा सकता था। जीवन बचाना पहली प्राथमिकता होती है। एक हमारे यहां हजारों के मारे जाने के बावजूद हम सात दिनों तक फसे हुए लोगों को निकालने में भी असफल हैं। सेना न होती तो क्या होता? आश्चर्य इस बात का भी है कि राजनीति का अर्थ कुर्सी है, प्रजा से उसका कोई लेना देना नहीं होता।
उत्तराखण्ड जहां रूडकी जैसा विश्वविद्यालय है। जहां आपातस्थिति के ऊपर अध्ययन किये गये हैं। जिनके आधार पर यह निश्चित किया गया है कि कुछ विशेष यंत्र इन स्थानों पर लगाये जाने हैं - जो पूर्वानुमान लगाकर बता सकते हैं कि संकट आ सकता है। उत्तराखण्ड में अंतरिक्ष रिमोट सेंसिंग सिस्टम और स्पेस रिसर्च एण्ड एप्लिकेशन सेंटर भी स्थित है। दोनों ही सक्षम और समर्थ हैं कि हमें आपदा की सूचना दे सकें। पर हमें अपने आसपास उपलब्ध सुविधाओं का ध्यान दुर्घटना होने के बाद आता है। हम कागजों पर लम्बी चौड़ी नीतियां और प्रबंधन की बाते करते हैं। सेमीनार होते हैं, लाखों रुपये की तैयारी करते हैं, पर ऐनवक्त पर सब धरा रह जाता है।
विगत दिनों कौसी में बाढ़ आयी थी पर हम उससे भी अलर्ट नहीं हुए। केवल दहशत की दहलीज पर खड़े लोगों द्वारा जिंदगी बचाने की जद्दोजहद पर मूक दर्शक बन देखते हैं। हाथ मलते हैं और व्यवस्थाओं को चुपचाप कन्नी काटते या मूंह छुपाते देखते रहते।
सवाल यह है कि आपदा प्रबंधन की राष्ट्रीय नीति का क्या हश्र हुआ यह उत्तराखण्ड में हमने देखा। भारत में अलग-अलग तीव्रता वाली अनेक प्राकृतिक और मानवजन्य आपदाएं आती रहती हैं। लगभग ५८.६ प्रतिशत भू-भाग सामान्य से लेकर बहुत अधिक तीव्रता वाला भूकम्प संभावित क्षेत्र है। ४० मिलीयन हैक्टेयर से अधिक क्षेत्र (१२ प्रतिशत भूमि) बाढ़ और नदी अपरदन संभावित है। ७५१६ किलोमीटर तटीय क्षेत्र में से लगभग ५७०० किलोमीटर क्षेत्र चक्रवात और सूनामी संभावित है। ६८ प्रतिशत कृषि योग्य क्षेत्र सूखा संभावित है और पहाड़ी क्षेत्रों में भूस्सखलन और हिमस्सखलन की जोखिम बनी रहती है। आपदाओं / रासायनिक जैविक विकिरण और नाभिकीय (सी.बी.आर.एन.) की संभावना रहती है। आपदा जोखिमों की अत्यधिक सुभेद्दताओं जो जनसंख्या वृद्धि, शहरीकरण और औद्योगीकरण, उच्च जोखिमों, पर्यावरण असंतुलन और जलवायु परिवर्तन से जोड़ा जा सकता है।
आपदाएं प्रगति में बाधाएं डालती हैं। एक झटके में लम्बे विकास प्रयासों को नष्ट कर देती हैं और प्रगति के पथ पर बढ़ते राष्ट्रों को कई दशक पीछे धकेल देती हैं। छोटी सी भूल भी बड़ा हादसा करवा देती है। जैसा कि भोपाल गैस त्रासदी में देखा गया।
आपदाओं के प्रति मानवीय सरोकारों पर नज़र डाले तों समाज के आर्थिक और सामाजिक रूप से कमजोर वर्ग, बुजुर्ग महिलाएं और बच्चे विशेष रूप से प्रभावित होते हैं।
२३ दिसम्बर २००५ को भारत सरकार ने आपदा प्रबंधन अधिनियम, को अधिनियमित करके एक उचित कदम उठाया था पर अभी भी हम इसका लाभ नहीं ले पा रहे हैं।
आपदा से तात्पर्य प्राकृतिक अथवा मानवजन्य कारणों से आने वाली किसी ऐसी विपत्ति, दुर्घटना, अनिष्ट और गंभीर घटना से है। जो प्रभावित समुदाय की सहन क्षमता से परे हो।
विदेशों में संचार माध्यमों से यह सूचनाएं अलर्ट करती हैं। भारत में व्यवस्थाओं, प्रशासन में लापरवाही, अनदेखी, आनाकानी और जनता में ओवरनेस किसी भी आपदा के खतरे अथवा संभावना की रोकथाम में असफल होती है।
हमारे गैर-जिम्मेदाराना रूख से परिणामों का न्यूनीकरण नहीं हो पाता। आपदा की तीव्रता और प्रभाव के आकलन में भी हमारी ढुलमुल स्थिति दिखाई देती है। पुनर्वास और पुनर्निर्माण हमारे देख में बाद में महज एक औपचारिता होता है।
प्रत्येक राज्य, संभाग, जिला स्तर पर हमें याद रखना चाहिए। आपदा प्रबंधन की विशिष्ट सतत प्रक्रिया में छह तत्व शामिल हैं। आपदा पूर्व चरण में रोकथाम, प्रशमन और तैयारी शामिल है। जबकि आपदा उपरांत चरण में पुनर्वास, पुनर्निर्माण और सामान्य स्थिति की बहाली शामिल है।
उत्तराखण्ड आपदा संभावित क्षेत्र है। पर व्यवस्थाएं प्रबंधन में पूर्ण रूप से फेल हुई। होना तो यह चाहिए था कि ऋषिकेश से यात्रा को नियंत्रित किया जाना चाहिए। व्यक्तिगत हजारों वाहनों से पहाड़ों को होने वाले नुकसान से बचाने के लिए ऋषिकेश से पर्यटन विभाग के बड़े निर्धारित वाहन ही भेजे जाने चाहिए। पहाड़ों पर वाहन चलाने के लिए अनुभवी ड्रायवर ही होना चाहिए। पर ऐसा कुछ नहीं किया जाता। एक निर्धारित उम्र से छोटे बच्चों को ले जाने की अनुमति पर भी विचार किया जाना चाहिए।
हम नीति व नियम बना भले ही लेते हैं पर अमल करवाने में हमारी कोई रूचि नहीं होती। भारत को अपने देश में जोखिम मूल्यांकन का एक बार फिर आत्मविश्लेषण करते हुए भौगोलिक पर्यावरणीय सूचना तंत्र को सुदृढ़ बनाने सतत आवश्यकता को नकारा नहीं जा सकता।
(लेखिका समाजशास्त्री एवं साहित्यकार है)
श्व्    डा. स्वाति तिवारी
ईएन - १/९ चार इमली, भोपाल
मोबाईल नं. - ९४२४०११३३४


शनिवार, 13 अप्रैल 2013

भोपाल गैस त्रासदी

ताकी सनद रहे बाकी


शुरू करते हैं यूनियन कार्बाइड से। एक ऐसा कलंक, जो हमारे माथे पर गहरा लगा है। हादसे ने तो इसे दुनिया के सामने जाहिर कर दिया। देश भर में हर दिन होने वाले छोटे-मोटे हादसों का सबसे बड़ा प्रतीक, जिनमें हमारी व्यवस्था उतने ही निष्ठुर और निर्मम रूप में सामने आती है, जितनी भोपाल में देखी गई। तारीख क्क् जनवरी ख्क्क्। गैस पीड़ित औरतों की दुनिया में दाखिल होने से पहले मैं इसी कलंकित कार्बाइड को नजदीक से देखना चाहती थी। कीटनाशकों के उत्पादन का यह अमेरिकी उद्योग, जो भारत में मौत का दूसरा भयावह नाम बन गया। हादसे के ढाई दशक गुजरने के बाद वह किस हाल में है, यह जानने के लिए मैंने उसी की तरफ कदम बढ़ाए। मैंने जानबूझकर वहां तक जाने का लबा रास्ता चुना जो पुराने भोपाल से होकर जाता है। भोपाल की इन्हीं सड़कों पर उस रात मौत का तांडव हुआ था। इन पर अब तक लाखांे पन्ने लिखे जा चुके हैं। हजारों लैक एंड व्हाइट तस्वीरें छपी हैं। मैंने भी देखी हैं। लाशों के ढेर। बच्चे, बूढ़े, जवान, औरतें और पशु-पक्षियों की मौत से लबालब तस्वीरें। मौत अपनी फितरत के मुताबिक ही बेरहम थी। उसने हिंदू, मुसलमान, सिख, ईसाई वह अमीर हो या गरीब, सब पर एक साथ हमला बोला। उसकी आमद सबसे ज्यादा थी इसी इलाके में।

जब मैं कार्बाइड के करीब जा रही थी तो बाजारांे मंे रौनक दिखी और रास्तांे पर भीड़। सड़क किनारे सजी, भाजी के ठेले लगातार मुश्किल होते यातायात में सदाबहार किरदारों की तरह भीड़ जुटाए खड़े थे। प्रवाहमान समय के साथ जीवन भी चलता है और जीवन की आपाधापी भी। यह हमारी परपरा में समाई उस दार्शनिक अवधारणा की पुष्टि करता है जो कहती है कि ‘समय और जीवन’ कभी थमते नहीं है। त्रासदी के कुछ समय बाद एक अलग ही संदर्भ में एक कवि-कलाकार ने यह कह दिया था कि ‘मरों के साथ मरा नहीं जाता’, उनकी बड़ी लानत-मलानत हुई थी। आज सोचती हूं तो लगता है कि उन्होंने क्या गलत कहा था, केवल एक सत्य ही तो उच्चारित किया था। ड्रायवर ने गाड़ी गलती से कारखाने के मुय दरवाजे से कुछ आगे बढ़ा दी थी। रुककर एक ऑटो वाले से कार्बाइड मंे जाने का रास्ता पूछा। उसने बायां हाथ उठाया और कहा, वो मौत का कारखाना तो पीछे छूट गया है। मैं जैसे ही पीछे मुड़ी तो देखा सामने एक स्मारक है, जो दुनियाभर मंे इस त्रासदी की पहचान बन चुका है।

यह एक आदमकद मूर्ति है। एक मां की मूर्ति, जिसकी गोद मंे एक बच्चा है। बच्चा उसके आंचल को थामे हुए है। इस सफेद मूर्ति को मैंने छूकर देखा, नीचे से ऊपर तक। फिर एक परिक्रमा की। मैं चारों ओर से उसे देखना चाहती थी। मां के अलावा और कोई शिल्प इतना बोलता, झकझोरता और मार्मिक नहीं हो सकता था। ाोपाल की उस भयावह रात का सबसे संजीदा प्रतीक। मुझे इस प्रतिमा में वह युवती नजर आई, जो अपने होने वाले पहले बच्चे के लिए गुलाबी स्वेटर बुन रही थी। अगर उसका बच्चा हो भी जाता तो शायद इसी हाल में वह कहीं भीड़ में भागती हुई मारी जाती। मौत से बचने की कोई सूरत उस रात नहीं थी। यह सोचते हुए मेरी आंखें भीग गईं। मुझे लगा कि मैं ही हूं, जो भागते हुए गैस की शिकार हो गई हूं। मैं ही हूं, जिसके हाथों बना गुलाबी स्वेटर कहीं पीछे छूट गया है।

मैं सोच ही रही थी कि इस प्रतीक को एक मां ही गढ़ सकती है, तभी मेरी निगाह मूर्ति पर उकेरे शदों पर गई, जिस पर लिखा था-रूथ वाटरमेन। पता किया तो मालूम चला कि यह महिला नीदरलैंड से कुछ दिनांे के लिए भोपाल आई थी। यह मार्मिक यादगार उसी की बनाई है। एक स्त्री और मां ही यह कर सकती थी। फिर वह चाहे हिन्दुस्तान की हो या नीदरलैंड की। औरत, औरत होती है। उसकी प्रकृति और उसका अंतस एक-सा ही होता है। वह किसी मुल्क, किसी मजहब और किसी कालंाड की ही क्यों न हो।

इस प्रकार है- ईश्वर सशरीर हम सबके साथ रहना चाहता था किन्तु वह ऐसा नहीं कर सका सो उसने मां बना दी। यहां पर यह मां उन हजारों म हादसे का यह यादगार प्रतीक किसी हरे-भरे उद्यान से घिरे मैदान मंे इज्जत से स्थापित नहीं है, जैसा कि आमतौर पर अंतर्राष्ट्रीय पहचान के ऐसे स्मारक होते हैं। यह मां तो कार्बाइड के ठीक सामने सड़क पर खड़ी है। भारत की उपेक्षित अवाम, खासतौर पर औरतों की एक सबसे असल और सशक्त प्रतीक। न जीते-जी किसी ने परवाह की और मरने के बाद बना दिए गए इस बेजान बुत के साथ भी वही सलूक। हमेशा से यही होता आया है। वे तहजीब के नाम पर परदों के अंधेरों में धकेली जाएं या ऑनर के नाम पर किल की जाएं। उन्हें इज्जत से बराबरी के दर्जे पर रखना अभी एक सुनहरा वाब भर है।

यह मां तो फैक्ट्री के ठीक सामने सड़क पर पिछले ख्ब् सालों से अपना वजूद कायम रखे है, न कोई रखवाली करने वाला है और न ही कोई देखभाल करने वाला। उस मां की देखभाल कौन करेगा जिसकी छाया में हजारों सयताएं पली-बढ़ी हैं। मुझे एक पुरानी राजस्थानी कहावत याद आ गई जिसका हिन्दी तर्जुमा कुछ ांओं के हमकदम है जो एक दिन तथाकथित आधुनिक सयता का शिकार हो गईं लेकिन वह भी मां ही हैं जो जिन्दादिली से जिन्दगी को आगे बढ़ाने की जद्दोजहद में जुटी हैं।

मां की यह प्रतिकृति तो सृजन और जीवन की निरंतरता की अभिव्यक्ति है। शोक और शांति का यह श्वेत-धवल शिल्प एक ऐसा सफेद पन्ना है जिस पर औरत फिर लिख रही है जीवन की इबारत। घर से बाहर निकलती यह औरत उस सृजनधर्मी धरती का प्रतीक है जो आदमी की भूलों को लगातार क्षमा करती रही है।

इस स्मारक से सटी हैं वे इंसानी बसाहटें, जहां गैस ने सबसे पहले हवाओं में दस्तक दी थी। कार्बाइड की मौत उगलती चिमनियांे से महज पांच सौ कदमांे के फासले से शुरू होती हैं ये अभागी बस्तियां। वक्त के साथ तब की झुग्गियांे की बनावट जरूर बदल गई है। कई रहने वाले भी बदल गए। अब यहां एक नई पीढ़ी सांसंे ले रही है। लेकिन यहां की तीन पीढ़ियों को हादसे की स्मृतियां आज भी ताजा हैं।

भोपाल हादसा और हिटलर के गैस चेबर अलग नहीं हैं। प्रथम विश्व युद्ध मंे फास्जीन मस्टर्ड गैस का उपयोग किया गया था। इसी जहरीली गैस ने दूसरे विश्व युद्ध मंे भी कहर ढाया था। हिटलर ने जर्मनी मंे लाखांे यहूदियांे को मौत के घाट उतारने के लिए इसी जहरीली गैस का इस्तेमाल कुयात गैस चेबरों मंे किया था। वही गैस पूरे भोपाल को भी जहरीले चेबर मंे बदल चुकी थी।

इस औरत को शामिल किए बिना कोई भी स्त्री विमर्श असंभव है। यह मूर्ति उस औरत ने बनायी है जिसने अपने अभिभावकों (माता-पिता) को हिटलर के गैस चैबर वाले हादसे में खो दिया था। अनाथ होने की पीड़ा से वह स्वयं पीड़ित थी। उसकी वही पीड़ा एक बार फिर घनीभूत हुई होगी भोपाल गैस त्रासदी की विश्वव्यापी खबर से। जीवन के वे बुरे दिन जो गुजर चुके थे स्मृति पटल पर फिर कसकते हुए उभरने लगे होंगे क्योंकि भोपाल हादसा और हिटलर के गैस चेबर की त्रासदी में समानता थी।

रूथ वाटरमेन के लिए यह मानसिक स्मृति यातना का दौर रहा होगा और जब पीड़ा का आवेग असहनीय हो गया होगा तो वे भारत की यात्रा पर निकल पड़ी होंगी। अपनी स्मृतियांे मंे खोई हुई अपनी मां को यहां किसी मां मंे ढूंढ़ती हुई वे जब यहां अनाथ ममता से मिलीं तो मां की ममता का यह यादगार मूर्त रूप खड़ा कर गयीं। मैंने इन्टरनेट पर ‘रूथ वाटरमेन एण्ड स्टोरी आफ ममता’ पढ़ी थी। यह एक व्यथा कथा है। ममता भी रूथ वाटरमेन की तरह हादसे मंे माता-पिता और भाई को खो चुकी थी। स्मारक मंे ममता मां के पीछे खड़ी है। यह उसकी जिंदगी में आई हादसे की काली रात की कहानी है। तब वह भी अपनी मां के भी पीछे-पीछे थी। कब साथ छूटा पता ही नहीं चला। ममता की मां की बांहांे मंे झूलता वह छोटा बच्चा वहीं मर गया था और रोती बिलखती बेबस मां भी मौत के मुंह मंे समा गई। विडबना यह थी कि ममता को न इलाज का पैसा मिला और न पढ़ाई, इसीलिए वह पढ़ाई नहीं कर सकी। रूथ वाटरमेन अपनी ही तरह की पीड़ा से लड़ती उस नन्हीं ममता से मिली। ममता मंे उसने खुद की तकलीफों को जिंदा देखा तो वही दर्द शिल्प की शक्ल में सामने आया, अब यही स्मारक दुनिया के सामने है। स्मारक के रूप मंे यह गैस त्रासदी की पहचान बन चुकी मां है जो इस पुस्तक में स्त्री विमर्श का ठोस धरातल बनी। कारखाने को पीठ दिखाती इस प्रतिमा पर तीन तरफ शिलालेख लगे हैं, जिन पर उर्दू, अंग्रेजी और हिन्दी मंे लिखा  है -

हिरोशिमा नहीं

भोपाल नहीं

हम जीना चाहते हैं

ऐसा विकट हादसा झेलने वाला भोपाल दुनिया में इकलौता शहर है और भोपाल में यह जगह इकलौता ठिकाना है, जहां एक यादगार बननी ही चाहिए थी, जो आने वाली पीढ़ियों को इस भयानक हादसे की लगातार याद दिलाती। लेकिन हम यह नहीं कर सके। हम यह जाहिर नहीं कर सके कि हमने कोई सबक भी सीखे हैं। बल्कि हमने यह जाहिर किया कि हम दिसंबर क्-त्त्ब् के पहले जैसे थे, वैसे ही अब हैं। सुधार में हमारी कोई दिलचस्पी नहीं है। जो हो रहा है, होने दीजिए। जो चल रहा है, चलने दीजिए। परवाह मत कीजिए। यहां लोगों की याददाश्त बहुुत कमजोर होती है। वे सब भूल जाएंगे। थोड़े दिन गुस्सा होंगे। गरियाएंगे। फिर किसे याद रहेगा कि क्या हुआ था

क्या हमारी व्यवस्था और व्यवस्थापकों की नजर में गैस हादसा, हर दिन होने वाली दूसरी मामूली दुर्घटनाओं की तरह एक और दुर्घटना थी, जो उस रात घटी? अदालत में तो बाकायदा इस हादसे को इसी दिशा में मोड़ भी दिया गया था।

स्मारक और आसपास की कार्बाइड की दीवारों पर दर्ज तस्वीरों और नारों को पढ़ते हुए मैं -फ् एकड़ के उजाड़ परिसर की तरफ बढ़ती हूं। अब यह ताकतवर अमेरिकी उद्योग परंपरा का एक शानदार कारखाना नहीं बल्कि जहरीले अपशिष्ट से भरा एक कबाड़खाना बन चुका है। अंदर जाने के लिए कोई रोक-टोक नहीं है। कीटनाशकों के उत्पादन के अपने बेहतरीन दौर में शायद ही कोई बाहरी आदमी यहां दूर भी फटक पाता होगा। लेकिन अब इसका काम खत्म हुए ख्स्त्र साल गुजर गए हैं। यह अपने घातक रसायनांे के इस्तेमाल का असर इंसानी चूहों पर देख चुका है।

मुझे अंदर जाते हुए किसी ने नहीं रोका। होमगार्ड के चंद जवान सर्दी में धूप सेंकते हुए इसकी सुरक्षा के लिए तैनात जरूर थे, लेकिन शायद अब किसी को रोकने की जरूरत ही कहां थी? यह हत्यारी फैक्ट्री अपना काम खत्म कर चुकी थी। धातु के इस बेजान ढांचे और खंडहर होती इमारतों में हर तरफ मक्खी और मच्छर जैसे कीटों की भरमार थी, जो बीमारियों की शक्ल में इंसानों के लिए हमेशा से ही मुश्किल पैदा करते रहे हैं। यूनियन कार्बाइड में इन्हीं कीटों के नाश के उपाय किए गए थे, लेकिन उन्होंने इंसानों के साथ ही कीट-पतंगों सा सलूक किया।

 मैंने महसूस किया कि हमारे आसपास मंडरा रहे अनगिनत कीट-पतंगे कार्बाइड को चिढ़ा रहे हैं। मैं देख रही थी एक अमेरिकी आसुरी उद्योग का मायाजाली विस्तार करीब त्त् एकड़ जमीन पर। जहरीली दवा बनाने वाली फैक्ट्री के संयंत्र में हर तरफ झाड़-झंखाड़ और गाजर घास का कजा था। यह कारखाना भारत में इस बात का स्मारक जरूर है कि ताकतवरों के आगे अवाम की हैसियत कीड़े-मकोड़ों से ज्यादा न आजादी के पहले थी, न आजादी मिलने के बाद है! जीते-जी यह कारखाना भी इसी हकीकत की मिसाल था और इसने दिसंबर क्-त्त्ब् में दुनिया के सामने इस हकीकत के सबूत भी दे दिए। बंद होने के बाद उजाड़ शक्ल में भी यह उसी हकीकत की याद दिलाता रहा है। शायद इसीलिए सरकारों को लगा हो कि अलग से किसी स्मारक को बनाने की जल्दी क्या है? लोग सीधे असली स्मारक को ही आकर देख लें। सर्दी की इस सुबह मैं इसी असली स्मारक के सामने थी।

दीवार फांदकर भीतर आने वाले बच्चे, पतंगें उड़ा रहे थे। बकरी चराती एक बूढ़ी औरत, जो सूनी आंखों से कभी कारखाने को देखती है तो मुंह फेर लेती है। कार्बाइड के पड़ोस की ये दो पीढ़ियां कभी भी यहां देखी जा सकती हैं। एक पीढ़ी ने हादसे को देखा और भोगा है और नई पीढ़ी ने सिर्फ सुना है या तस्वीरों और खबरों में देखा-पढ़ा है। कारखाने के बाहर आंखों के सामने हैं घनी बस्तियां। संकरी गलियां। गंदगी। बदइंतजामी। फटेहाली। बेबसी। गलियों में अंदर चहलकदमी कीजिए। किसी घर के दरवाजे पर दस्तक दीजिए। बेमकसद बैठे या टहलते लोगों की शक्लें देखिए। एक अजीब-सा अहसास भीतर कड़वाहट घोल देता है। यहां आकर गैस हादसा पीछे छूट जाता है। सिर्फ सवाल सर्प की तरह फन उठाने लगते हैं। साठ साल से सरकारों के दावे, आश्वासन, नीयत और नीतियों, अरबों की योजनाओं और उनके बेईमान अमल का सबूत है यह सब। एक दिशाहीन देश की दर्दनाक तस्वीर! शाम ढले जब कारखाना देखकर घर लौटी तो सबसे पहले भरे मन से मैंने अपनी डायरी मंे लिखा-

वो अनजान गाय चरती बैठी हैं

भोले बच्चे ले आए हैं पतंग की डोर

डर लगता है मुझको अब...

कहीं ऐसा ना हो...

कहीं से कोई ले आए अनुमति

की कोई नई पतंग,

लिख दे जिस पर हुक्मरान

यहां फिर बनेगी जहरीली गैस

यह कहकर किसी बच्चे को

पकड़ा दे डोर... जाओ उड़ाओ

हजारांे चेहरांे के गुबारे

भरकर मिक या फास्जीन

या कोई और

क्या पता...?

  मौत का बवंडर बने उन काले साए और सफेद बादलों से धुएं के मध्य प्रकाश की रेखा यह है कि दुनिया की अधिकांश सयताएं इस आसन्न विभीषिका के प्रति कम से कम अब तो जागरूक हों, पर हम जागरूक कभी नहीं होते। या तो सोते रहते हैं या हड़बड़ी में अति जागरूक हो उठते हैं जो हमें ही नुकसान पहुंचाने की प्रवृत्ति है। वह अतिरंजित जागरूकता ही तो थी, जो महत्वाकांक्षा में बदल गई थी और भारत में एक बड़े उद्योग की स्थापना के नाम पर कृषि मंत्रालय ने किसी बड़ी खुशखबरी की तरह बाकायदा अधिकारिक अनुमति पत्र के जरिए कार्बाइड के... एडुआर्डो यूनाज को सूचित किया था कि सरकार यूनियन कार्बाइड को प्रतिवर्ष पांच हजार टन कीटनाशक के उत्पादन का लाइसंेस प्रदान कर रही है।  यह वास्तव मंे सेविन के उत्पादन का निमंत्रण था, जिसका अर्थ था इस संयोजन मंे शामिल सभी रासायनिक तत्वांे को भारत मंे ही तैयार किया जा सकेगा। शायद यही वह पहली भूल थी, जिसने भोपाल को मौत के मुंह में ढकेल दिया था।

कपनी ने अपनी सुविधाएं देखीं और सरकार ने एक बड़ा जोखिम अनदेखा कर दिया। अनदेखी का परिणाम ही था कि सरकार ने भोपाल स्थित काली परेड ग्राउंड की पांच एकड़ जमीन यूनियन कार्बाइड को आवंटित कर दी। यही सबसे खतरनाक भूल थी। सरकार ने यह जानने की कोशिश भी नहीं की कि इस कारखाने मंे किस तरह के रसायनांे का उत्पादन किया जाएगा। वैज्ञानिकांे और पत्रकारांे की चेतावनी को भी नकार दिया कि ये रसायन मनुष्यांे और प्रकृति के लिए कहीं घातक तो नहीं।

मैंने यूनियन कार्बाइड के परिसर और आसपास के इलाकों को खामोशी से देखा। यह शहर मेरे लिए नया था। लेकिन अलग कुछ नहीं था। आमतौर पर जो अव्यवस्था और लापरवाही सड़कों और ट्रैफिक में देश में करीब-करीब हर जगह नजर आती है, वही बदइंतजामी यहां भी भरपूर थी। मुझे आश्चर्य हुआ कि इन ख्स्त्र सालों में कम से कम इस इलाके को तो रौनकदार बनाया ही जा सकता था। कुछ तो ऐसा हो सकता था, जो हमारे मानवीय सरोकारों का प्रमाण होता। क्या जापान ने हिरोशिमा और नागासाकी या अमेरिका ने वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के बरबाद बिंदुओं को नक्शे पर यूं ही रफा-दफा कर दिया था? नहीं। उन्होंने इन जमों को न सिर्फ भरा बल्कि इन जगहों को दुनिया की याददाश्त में लगातार जिंदा भी रखा है ताकि सदियों तक सनद रहे। ाोपाल हादसे के इस इलाके में आकर किसी को लगेगा ही नहीं कि यहां कभी कुछ हुआ था? और यह वो देश है, जो अपने राजनेताओं के मरने पर आलीशान समाधियों और स्मारकों पर अरबों रुपए फूंक देता है, जबकि उनमें से ज्यादातर को लोग अपनी नजरों और यादों से उतार फेंक चुके होते हैं!

औद्योगिक इतिहास की विभीषिका के निर्जीव अवशेष, स्मारक और फैक्ट्री के उजड़े आंगन से बाहर निकली तो शहर की उन्हीं तंग गलियों से लौटते हुए नजरें जीवित अवशेषों को खोज रही थीं। जानती तो थी कि लाखों लोग प्रभावित हुए हैं और त्रासदी से उपजी तकलीफों को आज तक निरंतर झेल रहे हैं। उनके जीवन की दर्दनाक, मार्मिक, रोंगटे खड़े करने वाली कल्पना, जिज्ञासाएं और उनसे जुड़े सवालों से घिरी थी। उनका दायरा जब विस्तृत होने लगा, तब जरूरी लगा चश्मदीद और पीड़ितों से मिलना क्योंकि कल्पनाएं मेरे सवालों के दृश्य तो खड़े करती थी पर जवाब नहीं दे सकती थीं। जरूरी था विचारों के घनीभूत होते धुएं से निकलना और यही वजह थी कि कुछ लोगों से मिलना, बात करना जरूरी होता गया। शहर मेरे लिए नया था अचानक किसी से मिलना संभव नहीं होता।

मुझे गैस पीड़ित मजबूर औरतों के एक जनसंगठन के जाने-माने कार्यकर्ता बालकृष्ण नामदेव के बारे में पता चला। पता चला कि लिली टॉकीज के सामने तिबतियों की स्वेटर की मौसमी दुकानों के पीछे हर रविवार और शुक्रवार एक बैठक होती है। यह है भोपाल का नीलम पार्क। कई सालों से गैस पीड़ित निराश्रित महिलाएं यहां आती रही हैं। बैठक का तय वक्त रहा है-दोपहर बारह से चार बजे। नामदेव ने कहा कि आप वहीं आ जाइए... मुलाकात हो जाएगी। अब मैं उन महिला किरदारों से रूबरू होने वाली थी, जिनके सवाल मेरे लिए सबसे अहम थे। मेरा फोकस उन्हीं पर था। उनके बीच जाते हुए मैं डरी हुई थी। मैं एक ऐसी जमात से मिल रही थी, जो  ख्स्त्र साल से सिर्फ उमीदों के आसरे थी, जिनके लिए जिंदगी जीते-जी बोझ बन गई थी। एक हादसे ने उनकी दुनिया को उलट-पलट कर रख दिया था। कैसी दिखती होंगी वे? क्या सोचती होंगी? उनके दिन और रात कैसे कटते होंगे? जो खो गए उन अपनों की यादों के कितने टुकड़े उनके भीतर तैरते रहते होंगे? वे जो बेमौत मारे गए। आंखों के सामने। अपनी गोद में। हंसते-खेलते। मां, बाप, भाई, बहन, पति, बच्चे और पड़ोसी।

(लेखिका जानी-मानी साहित्यकार है)

क        डा. स्वाति तिवारी

ई एन 1/9,चार इमली,

भोपाल

मोबाईल नं. - 9424011334