रेशमी नदी जीवन राग की

न मै सच हूँ
,न तुम सच हो ,
सच है हमारा साथ
कितने वर्ष हुए इसे
नहीं जानती मै
जानती हूँ उस एक पल कों
जब तुम्हारे साथ चली थी मै
तभी से ,
सात रंगों का झरना
झरता रहा मन के भीतर
लगा था कोई चीड़ियाँ
चहक रही थी
झाड़ी मे छिपकर

रंगों का इंद्र धनुष
उतर आया था हम पर
तभी से , नदी रेशमी जीवन राग की
बह रही है अन्तःस्थल मे










टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

‘‘रियलिटी शो एवं सामाजिक जीवन मूल्य’’

बैंगनी फूलों वाला पेड़