शब्दों के अक्षत
विचारों की एक नदी हम सब के अंतस में बहती है ,प्रवाह है कि थमने को तैयार नहीं ,और थमना भी नहीं चाहिये क्यूंकि जीवन चलने का नाम है अंतस का यही प्रवाह तो अभिव्यक्ति का उदगम है .थमने मत दी जिए बस थामे रहिये इस उदगम को विचारों का मंथन जाने कब कोई रत्न उगल दे .विचारों कि यह नदी जाने कितने झरनों के साथ मेरे अंतर्मन में भी प्रवाहमान है जब तक है तब तक लिखना भी रोजमर्रा में शुमार है .अभिव्यक्ति का आकाश भी अनंत है इस शीर्षक चित्र कि तरह रंग है तो उगते सूरज कि लालिमा पर शब्दों के अक्षत लगाते रहिये लगाते रहिये ---------संभावनाओं के असीम आकाश पर स्वागत है आपका

गुरुवार, 15 अप्रैल 2010

स्वाति तिवारी साहित्य अकादमी भोपाल में रचनापाठ करते हुए

1 टिप्पणी:

  1. स्वाति जी आपके रचना पाठ को हम भी सुनना चाहते हैं। मगर अफसोस की हम भोपाल में नहीं है। दुख इस बात का भी है कि आपने जिस रचना का पाठ किया. उसका कम से कम ब्लॉग पर कुछ अंश ही प्रकाशित कर देती ।

    उत्तर देंहटाएं