पानी रे पानी तेरा रंग कैसा


कल ही की बात है , अपने गांव गई थी , गांव कभी साढ़े बारह तालाबों से पहचाना जाता था ,उसी गांव मे पानी आज सबसे बड़ी समस्या हो गया है .सुन्दर शीतल कुएं ,बावडियों वाला राजा भोज का धार नगर टेंकरों से पानी लेता है .पानी अडोंसपड़ोंससे झगडे का कारणबन गया है .पानी की धार पर शायद धार नगर का नाम रहा हो ,आज पानी के धार के अवशेष भी मिट रहे है .तालाबों में कालोनी बस गई .पर कुओं ,बावड़ी को कालोनी काटने वालो से बचाना होगा ,क्या पता कल कोई बावड़ी को भी महल दुमहले में बदल दे ?कुओं को मल्टी का रूप देदे ?चलो हम सब मिल कर कुओं ,बावड़ी के जल स्त्रोंतो को खोले और साफ करदे ,अपने घर के बारिश के पानी को धरती में उतार दें । पानी को कितना उलिचेंगे ,?इस बार धरती में डाले पानी इसके लिए चलो अपने खेतमें इक पोखर बानाय्र .

टिप्पणियाँ


  1. अगला विश्वयुद्ध पानी पर कब्ज़े को लेकर ही होगा ।
    पर आप अपने सँकल्प पर कायम रहें !

    उत्तर देंहटाएं
  2. पानी की कमी बेपानी लोगो के कारण है

    उत्तर देंहटाएं
  3. ांअपका संकल्प अच्छा है सभी अइसे संकल्प लें तो ये समस्या आयेगी ही नही। शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

‘‘रियलिटी शो एवं सामाजिक जीवन मूल्य’’

बैंगनी फूलों वाला पेड़