माँ का आँचल

आ चल के तुझे मै लेके चलूँ एक ऐसे गगन के तले जहाँ गम भी न हो आसूं भी न हो बस प्यार ही प्यार पले.

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

‘‘रियलिटी शो एवं सामाजिक जीवन मूल्य’’

बैंगनी फूलों वाला पेड़