प्रशासन को सख्त रवैया अपनाते हुए एस्मा लागु करदेना चाहिए
.जूनियर डोक्टर जब अभी ग्रामीण इलाके में नहीं जाना चाहते तो बाद में क्या जायेंगे .?डोक्टर की डीग्री में पहली शपत मानवता की सेवा होती हे .वो  ग्रामीण या शहरी नहीं होती .कल वो कहेंगे की उन्हें केवल महानगर में ही नोकरी करनी हे .राज्य शासन को चाहिए वो अत्यावश्यक सेवा प्रतिरक्षण अधिनियम  एस्मा लागु करे समाज और मानवता के लिए यह जरुरी हे .  डोक्टर का दायित्व  सेवा से हट कर कमाना होता जा रहा हे जो उनकीअसंवेदन शीलता दर्शाता हे

.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

‘‘रियलिटी शो एवं सामाजिक जीवन मूल्य’’

बैंगनी फूलों वाला पेड़